dhoka shayari in hindi |धोका शायरी इन हिन्दी|


साड़ी दुनीया से लडकर तुझे अपना बनया
अखिर तुम भी वो निकले जो दूनिया न बटाया था
dhoka shayari in hindi |धोका शायरी इन हिन्दी|


कुछ लोग इतने मतलबी 
होते हैं कि,
अपने मतलब के लिए न जाने कितने मतलबी रिश्ते बनाते रहते हैं...
dhoka shayari in hindi |धोका शायरी इन हिन्दी|


लाइफ में प्यार तो हर एक को होता है,
पर प्यार कामयाब हर एक का न होता है।
dhoka shayari in hindi |धोका शायरी इन हिन्दी|

मुझे जिंदगी जीनी थी,
पर कहा पता था कि,
इसके लिए पहले सांसे
रोकनी होगी।
dhoka shayari in hindi |धोका शायरी इन हिन्दी|

कभी-कभी क़ोई पूछ लेता है 'वो कौन थी',
अब मैं भी जवाब दे देता हूँ, 'क़ोई ग़ैर थी' !!

new dhoka shayari in hindi

dhoka shayari in hindi |धोका शायरी इन हिन्दी|
वो चाहती थी शैलाब आये 
मोहब्बत का पल भर के लिए,
मैं चाहता था रिमझिम बरसात हो 
मगर उम्र भर के लिए।
dhoka shayari in hindi |धोका शायरी इन हिन्दी|

मेरी आँखो ने पकड़ा है उन्हें कई बार रंगे हाथ,
वो इश्क़ करना तो चाहते है मगर घबराते बहुत है।

dhoka shayari in hindi with image

dhoka shayari in hindi |धोका शायरी इन हिन्दी|

खुश हूँ कि मुझे रुला कर
तुम हंसे तो सही
मेरे ना सही किसी के दिल
मै बसे तो सही।
dhoka shayari in hindi |धोका शायरी इन हिन्दी|


अगर रो दू तेरे सामने में,
किसी दिन तो समझ लेना के,
बर्दास्त करने की हद,
ख़तम हो गई है मेरी।
dhoka shayari in hindi |धोका शायरी इन हिन्दी|

रोशनी के इंतज़ार में
अँधेरे से मोहब्बत हो गई।

dhoka shayari new

dhoka shayari in hindi |धोका शायरी इन हिन्दी|